28.1 C
Delhi
Monday, June 14, 2021

क्या आप जानते हैं महाशिवरात्रि का गृहस्थ और साधकों के लिए पूजा का अलग अलग मुहूर्त और शुभ योग

महाशिवरात्रि 2021 साल का वह पावन दिन है जिस दिन भक्त महादेव और शक्ति स्वरूपा माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए...
More

    Latest Posts

    दूल्हे के राज़ पता चलते ही दुल्हन ने किया शादी से इनकार, कहा मरना मंज़ूर है पर शादी नहीं

    आए दिन आप शादी को लेकर हंगामा सुनते होंगे जहां किसी न किसी वजह से शादी टूट जाती है।  शादी एक पवित्र...

    चाय बेचने वाले ने शुरू की एलो वेरा की खेती, अब अपने बिज़नेस से कमा रहा है लाखों

    अगर आपके पास नौकरी नहीं है और आप घर बैठे कारोबार करने की सोच रहे हैं तो आप एलोवेरा की खेती करके...

    कई दिनों से व्यक्ति के कान में हो रही थी सुरसुराहट डॉक्टर ने डाला कैमरा तो निकला यह रहस्य

    कीड़े बहुत छोटे और बड़े भी होते हैं छोटे कीड़े कहीं पर भी घुस सकते हैं यह हमारे मुंह नाक और कान...

    यरुशलम का क्या है महत्व, जानिए इजरायल और फिलिस्तीन में किस लिए छिड़ी है जंग

    यरूशलम का मुद्दा इजरायल और फलस्तीनी अरबों के बीच के पुराने विवाद में एक अहम मुद्दा रहा है। बीबीसी की एरिका चेर्नोफ्स्काई...

    11 घंटे से हथनी खोद रही थी मिट्टी, जब सामने आई सच्चाई तो सबके उड़ गए होश

    इंसान हो या जानवर, अपने बच्चों के लिए हर मां एक जैसी चिंता करती है। यह बात सोशल साइट्स पर इन दिनों शेयर की जा रही एक ऐसी इमोशनल स्टोरी जिससे कि साबित हो जाती है कि  हर मां के लिए बच्चा प्यारा होता है। इसमें एक हथिनी गड्ढे में गिरे अपने बच्चे को बचाने के लिए लगातार मिट्टी खोद रही है।

    बताया जा रहा है की यह हथिनी बीते दिनों अपने बच्चे के साथ जंगल पार कर रही थी, की तभी वो बच्चा वहां बने एक गहरे गड्डे में गिर गया, गड्डा काफी गहरा था, और हाथी के बच्चे की लंबाई काफी कम थी, इसी वजह से वो उस गड्डे को पार कर पाने में असमर्थ था।

    लेकिन उसे बाहर निकालने के लिए हथिनी ने काफी संघर्ष किया, बताया यह भी जा रहा है, की उसने लगातार बिना रुके 11 घंटे तक गड्डा खोदा।

    बताया जा रहा है की यह हथिनी बीते दिनों अपने बच्चे के साथ जंगल पार कर रही थी, की तभी वो बच्चा वहां बने एक गहरे गड्डे में गिर गया, गड्डा काफी गहरा था, और हाथी के बच्चे की लंबाई काफी कम थी, इसी वजह से वो उस गड्डे को पार कर पाने में असमर्थ था, लेकिन उसे बाहर निकालने के लिए हथिनी ने काफी संघर्ष किया, बताया यह भी जा रहा है, की उसने लगातार बिना रुके 11 घंटे तक गड्डा खोदा।

    अपने बच्चे को बाहर निकालने के लिए सुबह तक खोदा लेकिन वो नाकामयाब रही। उसके बाद वो थक कर रोने लगती है। रोने की आवाज सुन आसपास के लोग इकट्ठा हो गए।

    उन्होंने देखा कि हथनी का बच्चा गड्ढे में फंसा हुआ है। स्थानीय लोगों ने हथनी का ध्यान भटकाने के लिए केले खाने को दे दिया। जब हथनी केले खाने में व्यस्त हुई, उसके बाद उनलोगों ने हथनी के बच्चे को बाहर निकाल दिया। इस कहानी से हमे यही पता चलता है कि इंसान हो या जानवर मां की ममता सबकी एक ही होती है।

    Latest Posts

    दूल्हे के राज़ पता चलते ही दुल्हन ने किया शादी से इनकार, कहा मरना मंज़ूर है पर शादी नहीं

    आए दिन आप शादी को लेकर हंगामा सुनते होंगे जहां किसी न किसी वजह से शादी टूट जाती है।  शादी एक पवित्र...

    चाय बेचने वाले ने शुरू की एलो वेरा की खेती, अब अपने बिज़नेस से कमा रहा है लाखों

    अगर आपके पास नौकरी नहीं है और आप घर बैठे कारोबार करने की सोच रहे हैं तो आप एलोवेरा की खेती करके...

    कई दिनों से व्यक्ति के कान में हो रही थी सुरसुराहट डॉक्टर ने डाला कैमरा तो निकला यह रहस्य

    कीड़े बहुत छोटे और बड़े भी होते हैं छोटे कीड़े कहीं पर भी घुस सकते हैं यह हमारे मुंह नाक और कान...

    यरुशलम का क्या है महत्व, जानिए इजरायल और फिलिस्तीन में किस लिए छिड़ी है जंग

    यरूशलम का मुद्दा इजरायल और फलस्तीनी अरबों के बीच के पुराने विवाद में एक अहम मुद्दा रहा है। बीबीसी की एरिका चेर्नोफ्स्काई...

    Don't Miss

    अब लिपस्टिक से ही चल जाएगी गोलिया… महिलाएं रहेगी सुरक्षित

    आज के समय में भी लड़कियां सुरक्षित नहीं है। आए दिन लड़कियों से दुष्कर्म के मामले सामने आते रहते है। जिसके बाद...

    ऐसे बनाया गाय के गोबर से घर, रहता है वेंटिलेटिड और खर्चा है सीमेंट से 7 गुना कम

    अगर आपको कम लागत का एक ऐसा घर बनाना है जो वातानुकूलित हो तो आप हरियाणा के डॉ शिवदर्शन मलिक से मिलें।...

    महामारी से संक्रमित व्यक्ति ने अस्पताल में की शादी, PPE किट पहनकर आई दुल्हन

    महामारी ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है। दुनिया भर में कई लोग इससे संक्रमित हुए और कइयों ने जान गवां...

    कुछ बड़ा करने के प्रण लेकर निकले थे घर से, माँ के दिए 25 रुपये खड़ी कर ली 7,000 करोड़ की कंपनी

    ब्रिटिशकालीन भारत में 1898 में जन्में मोहन सिंह ओबेरॉय अब इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनकी...

    आज भी धरती पर भटक रहे हैं महाभारत के अश्वत्थामा,जानिए क्यों

    महाभारत में अश्वत्थामा एक ऐसे योद्धा थे, जो अकेले दम पर संपूर्ण युद्ध लड़ने की क्षमता रखे थे। कहते हैं कि भगवान...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.