32.1 C
Delhi
Sunday, June 20, 2021

क्या आप जानते हैं महाशिवरात्रि का गृहस्थ और साधकों के लिए पूजा का अलग अलग मुहूर्त और शुभ योग

महाशिवरात्रि 2021 साल का वह पावन दिन है जिस दिन भक्त महादेव और शक्ति स्वरूपा माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए...
More

    Latest Posts

    20 साल में 40 बार मिला ट्रांसफर, फिर भी नही मानी इस दबंग महिला अफसर ने हार

    जी हां दोस्तों, डी रूपा, एक ऐसा नाम, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। डी रूपा ने जब...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    कुदरत के फरिश्ते: चेन्नई की 12 ट्रांसवुमेन जो गरीबो को खिलाते है भरपेट खाना

    जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने। जो आप पढ़ रहे हैं ये ही सच्चाई है। जिन लोगों को आम इंसान भी...

    प्रेमिका की शादी में प्रेमी पहुँचा कुल्हाड़ी लेकर, और जयमाला के समय कर दिया ऐसा काम

    एकतरफा प्यार एक-दूसरे को किसी भी स्टेज तक लेकर जा सकता है। जो लोग एकतरफा प्यार करते हैं, वो लोग हमेशा खतरे...

    1.50 करोड़ रुपए की है ‘मोदी’ नाम की यह भेड़, जानिए क्या है इसमें खास

    अब एक ऐसी खबर जिसपर विश्वास कर पाना बेहद मुश्किल है जी हां भेड़ तो आप सबने देखे होंगे, लेकिन क्या आपको पता है कि एक भेड़ की कीमत 1.50 करोड़ रुपये हो सकती है।

    तो ये बात सच है। दरअसल अच्छी गुणवत्ता वाले मांस के लिए प्रसिद्ध ‘मेडगयाल’ नस्ल की एक भेड़ को महाराष्ट्र के सांगली जिले में 70 लाख रुपये में खरीदने की पेशकश हुई लेकिन भेड़ के मालिक ने इसे बेचने से इंकार कर दिया और इसकी कीमत 1.5 करोड़ रुपये रख दी।

    आपको बता दे कि दरअसल Madgyal नस्ल की भेडें अन्य भेड़ों से ज्यादा बड़ी, लंबी होती है औऱ इनकी ग्रोथ रेट भी ज्यादा होती है। इसलिए मार्केट में इनकी डिमांड भी ज्यादा है।

    राज्य का पशुपालन विभाग भी इस नस्ल की भेड़ों की जनसंख्या बढ़ाने के लिए काम कर रहा है। दिलचस्प बात ये है कि इस भेड़ का नाम मोदी रखा गया है। वहीं भेड़पालक बाबू मेटकरी ने कहा कि इस भेड़ का असली नाम सरजा है। 

    लोग इसकी तुलना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से करने लगे इसलिए इसका नाम ‘मोदी’ पड़ गया। लोगों का कहना है कि जिस तरह से मोदी सभी चुनाव जीतकर प्रधानमंत्री बनें, उसी तरह से सरजा को जिस भी मेले या बाजार में ले जाया गया, वहां इसका जलवा रहा।

    इसके साथ मेटकरी ने कहा कि सरजा उनके और उनके परिवार के लिए ‘शुभ’ है इसलिए वह इसे बेचना नहीं चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने 70 लाख रुपये की पेशकश करनेवाले खरीदार को इसे बेचने से इनकार कर दिया लेकिन जब वह जोर देने लगा तो मैंने इसकी कीमत 1.50 करोड़ रुपये बताई क्योंकि मैं जानता हूं कि भेड़ के लिए कोई इतनी बड़ी राशि खर्च नहीं करेगा।’’

    Latest Posts

    20 साल में 40 बार मिला ट्रांसफर, फिर भी नही मानी इस दबंग महिला अफसर ने हार

    जी हां दोस्तों, डी रूपा, एक ऐसा नाम, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। डी रूपा ने जब...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    कुदरत के फरिश्ते: चेन्नई की 12 ट्रांसवुमेन जो गरीबो को खिलाते है भरपेट खाना

    जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने। जो आप पढ़ रहे हैं ये ही सच्चाई है। जिन लोगों को आम इंसान भी...

    प्रेमिका की शादी में प्रेमी पहुँचा कुल्हाड़ी लेकर, और जयमाला के समय कर दिया ऐसा काम

    एकतरफा प्यार एक-दूसरे को किसी भी स्टेज तक लेकर जा सकता है। जो लोग एकतरफा प्यार करते हैं, वो लोग हमेशा खतरे...

    Don't Miss

    भारत का वो गांव जहां पर लोग तरसते है चाय पीने के लिए…

    हर किसी के दिन की शुरुआत चाय से होती है। बहुत कम ही ऐसे लोग होंगे जिन्हें...

    अजब: पूर्व पत्नी को देना था गुजारा भत्ता, ठेले पर 9 कुंतल सिक्के लेकर कोर्ट पहुंच गया ये शख्स

    इंडोनेशिया में पारिवारिक झगड़े का एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। सोलो में एक सरकारी कर्मचारी अपनी पत्नी को गुजारा भत्ता देने...

    इस देश मे मिला इंसानो जितना बड़ा चमगादड़, देखते ही डरके भागने लगे लोग

    चीन से निकले वायरस ने पूरी दुनिया में तांडव मचाया हुआ है। इस बीच महामारी को लेकर चमगादड़ भी काफी सुर्खियों में...

    पाकिस्तानी कॉमेडियन ने उड़ाया शशि थरूर का मज़ाक, थरूर ने कहा अपने प्रधानमंत्री पर भी बनाकर दिखाओ

    तिरुवनंतपुरम से कांग्रेस के सांसद शशि थरूर को अंग्रेजी भाषा के शानदार उपयोग के लिए जाना जाता है। 'सेसक्विलेडेलियन', 'पर्सपेसीस', 'गोंजो' इत्यादि...

    किसान आंदोलन पर सरकार की बड़ी जीत, ऐसा खेला मास्टर स्ट्र्रोक किसान हुए सोचने को मजबूर

    किसान और केंद्र सरकार इन दोनों के बीच कई दिनों से कृषि बिल को लेकर विवाद चल रहा है. दोनों के बीच...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.