11.1 C
Delhi
Thursday, January 20, 2022

खिलौने वाली बंदूक लेकर पति-पत्नी पहुंचे ज्वेलरी शॉप लूटने, जानिये फिर क्या हुआ

आज - कल का ज़माना बदल रहा है। बच्चों की बंदूक लेकर चोरी होने लगी है। आपने चोरी-डकैती के बहुत से किस्से...
More

    Latest Posts

    राज कुंद्रा की जमानत पर पति को इतने दिनों बाद देख भावुक हुई शिल्पा, इस तरह बयान किया दर्द

    शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा कई दिनों से पोर्नोग्राफी मामले में पुलिस हिरासत में है. अब आखिरकार उन्हे जमानत...

    जब घर बुलाकर Jaya Bachchan ने Rekha से कही थी ऐसी बात,जिसके बाद टूट गया था अमिताभ और रेखा का रिश्ता

    ये इश्क की कहानी आज तक चर्चित है, और शायद आगे भी रहेगी।बतादें, बॉलीवुड की अधूरी प्रेम कहानी का जिक्र जब भी...

    देश में पहली बार : कर्नाटक का सरकारी स्कूल बनेगा सैटेलाइट डिजाइनिंग का हिस्सा,इसरो करेगा मदद

    जी हाँ, ये बात बिल्कुल सही है और इन बच्चों की मदद इसरो करेगा। बतादें, इसरो अब तक छात्रों के 6 सैटेलाइट...

    इस रहस्यमय कुंड में ताली बजाते ही ऊपर उठने लगता है पानी, बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी मानते हैं इसे ‘कुदरत का करिश्मा’

    सचमुच दुनिया बड़ी ही करिश्माई है। जिसे जान गए वो आविष्कार और जिसे नहीं पता कर पाए वो चमत्कार। दरअसल, दुनिया में...

    1.50 करोड़ रुपए की है ‘मोदी’ नाम की यह भेड़, जानिए क्या है इसमें खास

    अब एक ऐसी खबर जिसपर विश्वास कर पाना बेहद मुश्किल है जी हां भेड़ तो आप सबने देखे होंगे, लेकिन क्या आपको पता है कि एक भेड़ की कीमत 1.50 करोड़ रुपये हो सकती है।

    तो ये बात सच है। दरअसल अच्छी गुणवत्ता वाले मांस के लिए प्रसिद्ध ‘मेडगयाल’ नस्ल की एक भेड़ को महाराष्ट्र के सांगली जिले में 70 लाख रुपये में खरीदने की पेशकश हुई लेकिन भेड़ के मालिक ने इसे बेचने से इंकार कर दिया और इसकी कीमत 1.5 करोड़ रुपये रख दी।

    आपको बता दे कि दरअसल Madgyal नस्ल की भेडें अन्य भेड़ों से ज्यादा बड़ी, लंबी होती है औऱ इनकी ग्रोथ रेट भी ज्यादा होती है। इसलिए मार्केट में इनकी डिमांड भी ज्यादा है।

    राज्य का पशुपालन विभाग भी इस नस्ल की भेड़ों की जनसंख्या बढ़ाने के लिए काम कर रहा है। दिलचस्प बात ये है कि इस भेड़ का नाम मोदी रखा गया है। वहीं भेड़पालक बाबू मेटकरी ने कहा कि इस भेड़ का असली नाम सरजा है। 

    लोग इसकी तुलना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से करने लगे इसलिए इसका नाम ‘मोदी’ पड़ गया। लोगों का कहना है कि जिस तरह से मोदी सभी चुनाव जीतकर प्रधानमंत्री बनें, उसी तरह से सरजा को जिस भी मेले या बाजार में ले जाया गया, वहां इसका जलवा रहा।

    इसके साथ मेटकरी ने कहा कि सरजा उनके और उनके परिवार के लिए ‘शुभ’ है इसलिए वह इसे बेचना नहीं चाहते हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ मैंने 70 लाख रुपये की पेशकश करनेवाले खरीदार को इसे बेचने से इनकार कर दिया लेकिन जब वह जोर देने लगा तो मैंने इसकी कीमत 1.50 करोड़ रुपये बताई क्योंकि मैं जानता हूं कि भेड़ के लिए कोई इतनी बड़ी राशि खर्च नहीं करेगा।’’

    Latest Posts

    राज कुंद्रा की जमानत पर पति को इतने दिनों बाद देख भावुक हुई शिल्पा, इस तरह बयान किया दर्द

    शिल्पा शेट्टी के पति और बिजनेसमैन राज कुंद्रा कई दिनों से पोर्नोग्राफी मामले में पुलिस हिरासत में है. अब आखिरकार उन्हे जमानत...

    जब घर बुलाकर Jaya Bachchan ने Rekha से कही थी ऐसी बात,जिसके बाद टूट गया था अमिताभ और रेखा का रिश्ता

    ये इश्क की कहानी आज तक चर्चित है, और शायद आगे भी रहेगी।बतादें, बॉलीवुड की अधूरी प्रेम कहानी का जिक्र जब भी...

    देश में पहली बार : कर्नाटक का सरकारी स्कूल बनेगा सैटेलाइट डिजाइनिंग का हिस्सा,इसरो करेगा मदद

    जी हाँ, ये बात बिल्कुल सही है और इन बच्चों की मदद इसरो करेगा। बतादें, इसरो अब तक छात्रों के 6 सैटेलाइट...

    इस रहस्यमय कुंड में ताली बजाते ही ऊपर उठने लगता है पानी, बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी मानते हैं इसे ‘कुदरत का करिश्मा’

    सचमुच दुनिया बड़ी ही करिश्माई है। जिसे जान गए वो आविष्कार और जिसे नहीं पता कर पाए वो चमत्कार। दरअसल, दुनिया में...

    Don't Miss

    3000 की लागत से शुरू किया था सलाद का बिज़नेस, आज कमाती है लाखों में

    खाने के साथ सलाद खाना एक अच्छी आदत होता है। फिर आजकल तो लोग हेल्थ को लेकर ज्यादा जागरूक भी हो गए...

    बाज और उल्लू करते हैं इस देश के राष्ट्रपति की सुरक्षा, परिंदा भी पर नहीं मार सकता आसमान में

    आपने देखा होगा कि किसी भी देश में प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति भवन की सुरक्षा का जिम्मा ट्रेंड कमांडो या आर्मी के जिम्मे...

    क्यों अंधेरा होते ही राजस्थान के इस मंदिर में कोई नहीं करता प्रवेश, 900 साल पहले दिया गया था यह श्राप

    दोस्तों हर एक मंदिर की अपनी अलग मान्यता होती है। हर एक मंदिर की अपनी अलग भव्यता होती है। हर मंदिर के...

    यह नेशनल बॉक्सर आज है ऑटो चलाने को मजबूर, आज तक यह सपना न पूरा कर पाने का रहता है मलाल

    मेहनत और मुक़ाम के बीच बंधी डोर कई बार क़िस्मत के भार से टूट जाती है। साथ ही, टूट जाता है वो...

    गजब: गरीब की बेटी को मिली 9 सरकारी नौकरियां, सभी छोड़,अब इस लक्ष्य पर कर रही मेहनत

    हमारे देश में बेरोजगारी की संख्या बढ़ती जा रही है। लोगों की नौकरी छूट रही है ऐसे में सरकारी नौकरी मिलना बड़ी...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.