28.1 C
Delhi
Saturday, June 19, 2021

क्या आप जानते हैं महाशिवरात्रि का गृहस्थ और साधकों के लिए पूजा का अलग अलग मुहूर्त और शुभ योग

महाशिवरात्रि 2021 साल का वह पावन दिन है जिस दिन भक्त महादेव और शक्ति स्वरूपा माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए...
More

    Latest Posts

    20 साल में 40 बार मिला ट्रांसफर, फिर भी नही मानी इस दबंग महिला अफसर ने हार

    जी हां दोस्तों, डी रूपा, एक ऐसा नाम, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। डी रूपा ने जब...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    कुदरत के फरिश्ते: चेन्नई की 12 ट्रांसवुमेन जो गरीबो को खिलाते है भरपेट खाना

    जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने। जो आप पढ़ रहे हैं ये ही सच्चाई है। जिन लोगों को आम इंसान भी...

    प्रेमिका की शादी में प्रेमी पहुँचा कुल्हाड़ी लेकर, और जयमाला के समय कर दिया ऐसा काम

    एकतरफा प्यार एक-दूसरे को किसी भी स्टेज तक लेकर जा सकता है। जो लोग एकतरफा प्यार करते हैं, वो लोग हमेशा खतरे...

    जब रेगिस्तान में ऊंट पर आई बारात तो बुज़ुर्गों को भी याद आये पुराने दिन, जानिए कहाँ हुई यह अनोखी शादी

    संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच शादी विवाह को लेकर सरकार की रोजाना नई नई गाइडलाइन जारी हो रही है। इसकी वजह है कि सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा सके। ऐसे में लॉकडाउन की वजह से कई शादियों को रद्द कर दिया गया है। फिलहाल सोशल मीडिया पर इस समय एक शादी खूब चर्चे में है। सोशल डिस्टेंसिंग वाली शादी का पालन करते हुए राजस्थान के जैसलमेर से एक ऐसा मामला सामने आया जो सरकार की गाइडलाइंस को का पूरी तरह से पालन तो करती है।

    इसके साथ ही बुजुर्ग लोगों की यादें भी ताजा कर दी। राजस्थान के जैसलमेर जिले के बांधेवा पंचायत के दुल्हे महिपाल सिंह एवं परिजनों ने बेहद अनोखे तरीके से बारात निकाला।

    महिपाल सिंह शादी करने के लिए रेगिस्तान के जहाज यानी ऊंटों पर बारात लेकर दुल्हन लेने पहुंचे। उनका यह तरीका काफी हटकर था, लिहाजा इस शादी में देख पूरे क्षेत्र में चर्चा बनी हुई है। आपको बता दे कि दोनों गांवों के बीच लगभग 7 किलोमीटर का रास्ता तय करना था।

    जिसके लिए दूल्हे महिपाल सिंह ने बारात ले जाने के लिए एक अनोखा अंदाज अजमाया। उन्होंने 15 ऊँटो को बुक किया और कुल 30 बाराती लेकर बारात लेकर चल दिए। लोगों का कहना है कि देश-दुनिया की तरह जैसलमेर में भी आधुनिकता के चलते अब ज्यादात्तर लोग बारात ले जाने के लिए चमचमाती कारों का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन पहले ऊंटों से भी बारात लेकर जाई जाती थी।

    ऐसे में जैसलमेर में इतने लंबे अंतराल के बाद इस अंदाज में बारात निकली, तो हर कोई इसे देखकर हैरान हो गया। बुजुर्गों का कहना है कि लगभग 50 साल बाद ऊंट पर कोई बारात लेकर जा रहा है।

    बुजुर्गों को भी अपनी जवानी के दिन याद आ गए। वाकई ये तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है और हर कोई इस दृश्य और तरीके की तारीफ कर रहा है। खासकरके गांव के लोग इस शादी को लेकर काफी ज्यादा खुश है।

    Latest Posts

    20 साल में 40 बार मिला ट्रांसफर, फिर भी नही मानी इस दबंग महिला अफसर ने हार

    जी हां दोस्तों, डी रूपा, एक ऐसा नाम, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। डी रूपा ने जब...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    कुदरत के फरिश्ते: चेन्नई की 12 ट्रांसवुमेन जो गरीबो को खिलाते है भरपेट खाना

    जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने। जो आप पढ़ रहे हैं ये ही सच्चाई है। जिन लोगों को आम इंसान भी...

    प्रेमिका की शादी में प्रेमी पहुँचा कुल्हाड़ी लेकर, और जयमाला के समय कर दिया ऐसा काम

    एकतरफा प्यार एक-दूसरे को किसी भी स्टेज तक लेकर जा सकता है। जो लोग एकतरफा प्यार करते हैं, वो लोग हमेशा खतरे...

    Don't Miss

    भारत का वो आखरी गाँव जहाँ जाकर लोग हो जाते है अमीर, खुल जाता है बन्द किस्मत का दरवाज़ा

    पैसा कमाना रूपए पैसों से परिपूर्ण होना हर किसी के जीवन का मुख्य उद्देश्य होता है। पैसा कमाने के लिए लोग ना...

    किसान आंदोलन पर सरकार की बड़ी जीत, ऐसा खेला मास्टर स्ट्र्रोक किसान हुए सोचने को मजबूर

    किसान और केंद्र सरकार इन दोनों के बीच कई दिनों से कृषि बिल को लेकर विवाद चल रहा है. दोनों के बीच...

    आखिर क्यों एक कटा सेब बना एप्पल कंपनी का लोगो, जानिए क्या है इसके पीछे की कहानी

    आज के समय में हर कोई की पहली पसंद एप्पल ब्रांड बन चुका है। हर किसी की चाहत होती है कि वो...

    कुछ बड़ा करने के प्रण लेकर निकले थे घर से, माँ के दिए 25 रुपये खड़ी कर ली 7,000 करोड़ की कंपनी

    ब्रिटिशकालीन भारत में 1898 में जन्में मोहन सिंह ओबेरॉय अब इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनकी...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.