14.1 C
Delhi
Saturday, February 4, 2023
More

    Latest Posts

    क्या आप जानते हैं की व्हिस्की, वोदका, बियर, ब्रांडी और वाइन में क्या अंतर होता है

    शराब का सेवन सेहत के लिए हानिकारक है यह जानते हुए भी देशभर के करीब 15 प्रतिशत लोग शराब पीते हैं। नशीले पदार्थों के सेवन में शराब के बाद दूसरे नंबर पर भांग है जिसका करीब 3 करोड़ लोग सेवन करते हैं। शराब कई प्रकार की होती हैं जैसे बीयर, शैम्पेन, साइडर, पोर्ट और शेरी, व्हिस्की, रम, ब्रांडी और जिन आदि।

    वैसे तो भारत में शराब के कई नामो से जाना जाता है जैसे की मंदिरा, शराब, दारू और सोमरस आदि. लेकिन इन सभी नामो का मतलब होता है कि ऐसा पेय पदार्थ जिसमे अल्कोहल मिला हो.

    assorted wine bottles
    Photo by Chris F on Pexels.com

    शराब को बनाने में कई चीज़ों का इस्तेमाल किया जाता है जैसे की गेंहूँ, मक्का, जौ, गन्ना और कई फलों का भी इस्तेमाल किया जाता है. अलग अलग तरह की शराब बनाने में अलग अलग चीज़ों जैसे की बियर बनाने में गेंहूँ, जौ और मक्के का इस्तेमाल होता है इसी तरह दूसरी शराबों को बनाने में अलग अलग चीज़े इस्तेमाल में ली जाती है.

    बीयर

    two persons holding drinking glasses filled with beer
    Photo by Tembela Bohle on Pexels.com

    बीयर में भी शराब की मात्रा बहुत कम होती है, जबकि रम में यह मात्रा अत्यंत उच्च है, और इन सब में शैम्पेन सबसे महंगी शराब है। बीयर तैयार करने के लिए फल और साबुत अनाज के रस का प्रयोग किया जाता है। इसमें बहुत ही कम मात्रा में एल्कोहल मिलाते हैं। हालांकि इसके अधिक सेवन से बचना भी चाहिए।

    वाइन

    woman holding a glass with wine
    Photo by RODNAE Productions on Pexels.com

    वाइन का रोजाना एक ग्लास शरीर को तरोताजा रखने में मददगार होता है। इसके अलावा ये भी कहा जाता है कि ऐसा सेवन हृदय रोग के खतरे, हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज जैसी बीमारी के खतरे से बचा सकता है।

    व्हिस्की

    bottle of whiskey between decanter and ornamental glass with cigar
    Photo by Max Vakhtbovych on Pexels.com

    व्हिस्की कार्बोहाइड्रेट का अच्छा स्रोत है। इसके एक जाम में सिर्फ 65 कैलोरी होती है और इसमें फैट्स बिल्कुल नहीं है। व्हिस्की का सेवन कैंसर से बचाव में मददगार हो सकता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स अच्छी मात्रा में हैं जो कैंसर की कोशिकाओं से लड़ने में मदद करते हैं। इसमें एलेजिक एसिड अच्छी मात्रा में है जो डीएनए में नाइट्रोसेमाइन्स और पोलीसाइक्लिक हाइड्रोकार्बन जैसे कार्सिनोजेनिक तत्व से लड़ने में मदद करते हैं।

    ब्रांडी

    alcoholic drink poured into glass
    Photo by Charlotte May on Pexels.com

    ब्रांडी दूसरे एल्कोहॉलिक प्रोडक्ट्स की तुलना में ज़्यादा फ़ायदेमंद होती है। इसमें कार्बोहाइड्रेट कम होता है। इसलिए ब्रांडी से वज़न नियंत्रित रहता है।

    वोदका

    vodka bottle in the snow
    Photo by Ibrahim Unal on Pexels.com

    वोदका में एल्कोहोल की मात्रा अधिक होती है लेकिन अगर इसका सही तरह से सेवन किया जाए तो सके कई फायदे हैं। वोदका त्‍वचा को मुलायम बनाकर उसकी रंगत निखारता है। त्‍वचा की रंगत निखारने के लिए यह बहुत ही अच्‍छा प्राकृतिक उपाय है।

    Latest Posts

    Don't Miss

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.