32.1 C
Delhi
Sunday, June 20, 2021

क्या आप जानते हैं महाशिवरात्रि का गृहस्थ और साधकों के लिए पूजा का अलग अलग मुहूर्त और शुभ योग

महाशिवरात्रि 2021 साल का वह पावन दिन है जिस दिन भक्त महादेव और शक्ति स्वरूपा माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए...
More

    Latest Posts

    20 साल में 40 बार मिला ट्रांसफर, फिर भी नही मानी इस दबंग महिला अफसर ने हार

    जी हां दोस्तों, डी रूपा, एक ऐसा नाम, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। डी रूपा ने जब...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    कुदरत के फरिश्ते: चेन्नई की 12 ट्रांसवुमेन जो गरीबो को खिलाते है भरपेट खाना

    जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने। जो आप पढ़ रहे हैं ये ही सच्चाई है। जिन लोगों को आम इंसान भी...

    प्रेमिका की शादी में प्रेमी पहुँचा कुल्हाड़ी लेकर, और जयमाला के समय कर दिया ऐसा काम

    एकतरफा प्यार एक-दूसरे को किसी भी स्टेज तक लेकर जा सकता है। जो लोग एकतरफा प्यार करते हैं, वो लोग हमेशा खतरे...

    अगर मधुमक्खी ना रहे तो पृथ्वी से इंसान की मौजूदगी भी धीरे धीरे खत्म हो सकती है, जाने कैसें?

    मधुमक्खी अपनी जिंदगी में कभी नहीं सोती। ये इतनी मेहनती होती है कि पूछो मत, एक बूंद शहद के लिए दूर-दूर तक उड़ती हैं। अब मधुमक्खीयां तेजी से खत्म हो रही हैं,कभी बरामदे, तो कभी पेड़ों में लगे छत्ते की भिनभिनाहट किसी को भी परेशान कर सकती है। काली-पीली मधुमक्खी ने कहीं काट लिया तो दर्द कौन झेलेगा? लेकिन इनके छत्ते मिटाने से कहीं इंसान पूरी धरती को तो खतरे में नहीं डाल रहा?

    एक स्टडी में दावा किया गया है कि 1990 के बाद से मधुमक्खियों की एक चौथाई आबादी पब्लिक रेकॉर्ड में देखी ही नहीं गई हैं। आपको बता दे कि मधुमक्खी धरती पर अकेली ऐसी कीट है जिसके द्वारा बनाया गया भोजन मनुष्य द्वारा खाया जाता है। दरअसल, इस नन्हे जीव ने उठा रखा है धरती पर जीवन के विकास का बीड़ा और अगर ये न हो तो न सिर्फ जंगल बल्कि दुनियाभर का पेट भरने वाली फसलें भी खतरे में पड़ सकती हैं।

    आपको बता दें कि मधुमक्खियों तथा फूल-पौधों के मध्य का सम्बंध पृथ्वी पर सर्वाधिक व्यापक, सामंजस्यपूर्ण व परस्पर निर्भरता का है। करीब 10 करोड़ वर्षों पूर्व मधुमक्खियों तथा फूलों के मध्य के सामंजस्य द्वारा यह पृथ्वी समृद्ध बनी थी। अतः इस ग्रह पर संपूर्ण मानव जाति के उत्थान हेतु भी मधुमक्खियाँ ही कारण है। मधुमक्खियों की विविधता और मौजूदगी पर कई इंसानी गतिविधियों का असर पड़ता है।

    इसमें गहन कृषि और निवासस्थान की तबाही जैसे कारण शामिल हैं लेकिन इसकी पुष्टि करने के लिए डेटा नहीं है। वहीं रॉयल ज्योग्राफिक सोसाइटी ऑफ लंदन की एक मीटिंग की गई थी, जिसमें अर्थवॉच इंस्टीट्यूट ने कहा कि मधुमक्खी हमारी पृथ्वी पर सबसे अमूल्य प्राणी होती हैं।

    Latest Posts

    20 साल में 40 बार मिला ट्रांसफर, फिर भी नही मानी इस दबंग महिला अफसर ने हार

    जी हां दोस्तों, डी रूपा, एक ऐसा नाम, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। डी रूपा ने जब...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    कुदरत के फरिश्ते: चेन्नई की 12 ट्रांसवुमेन जो गरीबो को खिलाते है भरपेट खाना

    जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने। जो आप पढ़ रहे हैं ये ही सच्चाई है। जिन लोगों को आम इंसान भी...

    प्रेमिका की शादी में प्रेमी पहुँचा कुल्हाड़ी लेकर, और जयमाला के समय कर दिया ऐसा काम

    एकतरफा प्यार एक-दूसरे को किसी भी स्टेज तक लेकर जा सकता है। जो लोग एकतरफा प्यार करते हैं, वो लोग हमेशा खतरे...

    Don't Miss

    महामारी के कारण अलग हो गया था ये बुज़ुर्ग कपल, मिले तो ऐसे बरसाया प्यार

    साल 2020 से लेकर आज तक कोरोना ने लगभग सभी को अपनी ज़द में लेने की कोशिश की है। जो इससे बच...

    3000 की लागत से शुरू किया था सलाद का बिज़नेस, आज कमाती है लाखों में

    खाने के साथ सलाद खाना एक अच्छी आदत होता है। फिर आजकल तो लोग हेल्थ को लेकर ज्यादा जागरूक भी हो गए...

    फरारी के मालिक से बेइज्‍जती का बदला लेने के लिए किसान के बेटे ने बना डाली थी लम्‍बोर्गिनी

    जब-जब बात लग्जरी कारों की होगी तो उसमें लैंबॉर्गिनी का नाम भी जरूर लिया जाएगा। लैंबॉर्गिनी दुनिया की मशहूर लग्जरी और स्पोर्ट्स...

    क्यों खजूर से ही मुसलमान खोलते है रोज़ा, जानिए क्या है इसका धार्मिक महत्व

    रमजान आने पर जहां मस्जिदें विरान हैं। वहीं, इस मुस्किल घड़ी में भी दुनियाभर के मुसलमान रमजान के इस मुकद्दस महीने में...

    शिकार करने आया शेर को देखकर लोमड़ी ने की मरने की एक्टिंग, बच गई जान

    हर किसी को अपनी जान की परवाह होती है। चाहे वो इंसान हो या जानवर हर किसी में समझने की शक्ति होती...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.