34.1 C
Delhi
Tuesday, May 17, 2022

लाख राशन दे या बनवा दे मकान मुस्लिम मतदाता ने साबित किया कि वें हमेशा भाजपा विरोधी रहेंगे

उप्र चुनाव में विशेषकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आंकड़ों पर नजर डाली आये तो मुस्लिम बाहुल्य ७१ सीटों में से ६७...
More

    Latest Posts

    हरियाणा-दिल्ली NCR से लद्दाख जाना अब होगा आसान, शुरू हुई स्पेशल बस सर्विस, जानें किराए से लेकर टाइमिंग तक सब कुछ

    गर्मी के दिनों में हर किसी का मन पहाड़ों पर जाने के लिए करता है। लेकिन कई बार जितनी खूबसूरत मंजिल...

    तीसरा बच्चा पैदा करने पर 11 लाख का बोनस और साल भर की छुट्टी, पढ़ें क्या है यह नई पॉलिसी

    एक ओर जहां भारत में बढ़ती हुई जनसंख्या (Population Explosion) एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है, वहीं पड़ोसी देश चीन में बुजुर्गों की...

    इस योजना के तहत प्रदेश की बेटियों को सरकार देगी 25000 रुपए, ऐसे उठाएं लाभ

    बेटियों की शिक्षा के लिए केंद्र सरकार और राज्य की सरकारें कई तरह की योजनाएं लाती रहती हैं। ऐसी ही राज्य सरकार...

    10वीं पास, ग्रेजुएट युवाओं के लिए बिजली विभाग में निकली भर्तियां, ऐसे करें अप्लाई

    तेलंगाना स्टेट साउदर्न पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (TSSPDCL) में जूनियर लाइनमैन, जूनियर इंजीनियर और सब इंजीनियर पदों पर नौकरियां हैं। इन पदों...

    10 साल से 1 कमरे में बंद रहे ये 3 भाई बहन, दरवाजा तोड़ देखा तो चकित रह गए लोग

    गुजरात के राजकोट से एक ऐसा मामला सामने आया जिसे सुनने के बाद आपका दिल दहल जाए। दरअसल यहां तीन बहन-भाइयों के खुद को तकरीबन 10 सालों तक एक अंधेरे कमरे में बंद रखा था। जिसके बाद आज एक गैर सरकारी संगठन ने तीनों को उनके पिता की सहायता से बचा लिया गया। इन तीनों की आयु 30 से 42 वर्ष के बीच है।

    जरा सोचिए 10 साल तक ये तीनों भाई बहन कैसे एक ही कमरे में रह सकते है। वे तीनों ने अपने को समाज से दूर रखा। किसी को इसकी भनक भी नहीं लगने दी। इस खबर के सामने आने के बाद अब कई तरह की बातें सामने निकल कर आ रही है।

    इसके साथ ही इन सबके पीछे पिता पर भी आरोप लग रहे है। वहीं बेघरों के कल्याण के लिए काम करने वाले एनजीओ ‘साथी सेवा ग्रुप’ की अधिकारी जालपा पटेल ने बताया कि जब रविवार शाम को उनके संगठन के सदस्यों ने कमरे का दरवाजा तोड़ा, तो उन्होंने पाया कि उसमें बिल्कुल रोशनी नहीं थी और उसमें से बासी खाने एवं मानव के मल की दुर्गंध आ रही थी तथा कमरे में चारों ओर समाचार पत्र बिखरे पड़े थे।

    तीनों भाई बहन के पिता नवीन मेहता भी एक रिटायर्ड सरकारी कर्मचारी है, वो भी इसी घर में रहते हैं. उन्हें 35,000 रुपये की मासिक पेंशन मिलती है। उसी से वो घर का खर्च चलाते हैं। नवीन ने बताया, ‘उनकी पत्नी की मौत दस साल पहले हो गई थी। उसके बाद तीनों बच्चों को बड़ा झटका लगा और उन्होंने खुद को कमरे में बंद कर लिया।

    बहुत कोशिशों के बाद भी वे बाहर नहीं निकले. ‘ नवीन मेहता ने बताया कि उनके कुछ रिश्तेदारों ने उनके बच्चों पर काला जादू किया है। जिसकी वजह से उनकी ऐसी हालत हो गई है।

    Latest Posts

    हरियाणा-दिल्ली NCR से लद्दाख जाना अब होगा आसान, शुरू हुई स्पेशल बस सर्विस, जानें किराए से लेकर टाइमिंग तक सब कुछ

    गर्मी के दिनों में हर किसी का मन पहाड़ों पर जाने के लिए करता है। लेकिन कई बार जितनी खूबसूरत मंजिल...

    तीसरा बच्चा पैदा करने पर 11 लाख का बोनस और साल भर की छुट्टी, पढ़ें क्या है यह नई पॉलिसी

    एक ओर जहां भारत में बढ़ती हुई जनसंख्या (Population Explosion) एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है, वहीं पड़ोसी देश चीन में बुजुर्गों की...

    इस योजना के तहत प्रदेश की बेटियों को सरकार देगी 25000 रुपए, ऐसे उठाएं लाभ

    बेटियों की शिक्षा के लिए केंद्र सरकार और राज्य की सरकारें कई तरह की योजनाएं लाती रहती हैं। ऐसी ही राज्य सरकार...

    10वीं पास, ग्रेजुएट युवाओं के लिए बिजली विभाग में निकली भर्तियां, ऐसे करें अप्लाई

    तेलंगाना स्टेट साउदर्न पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (TSSPDCL) में जूनियर लाइनमैन, जूनियर इंजीनियर और सब इंजीनियर पदों पर नौकरियां हैं। इन पदों...

    Don't Miss

    ये है दुनिया का सबसे जहरीला पेड़, संपर्क में आते ही मौत पक्की

    हर कोई अपने आसपास या घरों में पेड़ पौधे लगाते है। वातावरण को सुरक्षित रखने के लिए भी सभी लोग पौधे लगाने...

    यह है न्यूयॉर्क का ‘सबसे बेकार अपार्टमेंट’, 1 लाख रुपये से ज्यादा है किराया

    न्यूयॉर्क शहर के प्रसिद्ध प्रतिस्पर्धी रियल-एस्टेट बाजार में इस सप्ताह एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। एक ऐसा अपार्टमेंट...

    दाँतो में हुआ दर्द तो लड़की ले आई पड़ोस से 1 रुपये की पेनकिलर, खाकर हुआ यह दर्दनाक अंजाम

    दवाएं दर्द मिटाने और बीमारी भगाने के लिए होती हैं, लेकिन अगर उन्हें सही तरीके और सही मात्रा में न लिया जाए...

    इस पीपल के पेड़ से प्रकट हुई माता की मूर्ति, दर्शन के लिए लोग लगाते है लंबी कतार

    हिन्दू मान्यताओं के आधार पर कुछ खास पेड़-पौधों को धर्म-कर्म में विशेष महत्व दिया जाता है। जैसे कि पूजा-पाठ के कामों में...

    बंदर ने दिखाया इंसानियत ऐसा नमूना, पिल्ले को गोद मे लेकर दिया माँ का प्यार

    हम इंसानों को कभी-कभी जानवर भी एक अच्छी सीख दे जाते हैं और ये भी जाहिर कर देते हैं कि इंसानों से...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.