14.1 C
Delhi
Thursday, December 8, 2022
More

    Latest Posts

    अगले दो दिनों तक हरियाणा के इन इलाकों में होगी जोरदार बारिश, IMD ने जताई संभावना, जारी हुआ अलर्ट

    जल्दी ही हरियाणा वासियों को इस चिपचिपी और भीषण गर्मी से राहत मिलने वाली है। मानसून की दस्तक के साथ ही लोगों को भीषण गर्मी व उमस भरे वातावरण से निजात मिली हुई है। शनिवार को भी तेज हवा चलने और बादलवाई रहने के साथ कई जगहों (heavy rainfall in Haryana) पर हुई बारिश से दोपहर के तापमान में गिरावट दर्ज की जा रही है। संभावना है कि 7 जुलाई तक प्रदेश में आमतौर पर मौसम परिवर्तनशील (heavy rain alert) रहेगा। इस दौरान उत्तर व दक्षिण हरियाणा के कई इलाकों में हल्की-हल्की बारिश होगी।

    वहीं पश्चिमी क्षेत्रों में छिटपुट बूंदाबांदी होने की संभावना है। लेकिन अनुमान है कि 6 व 7 जुलाई को प्रदेश के ज्यादातर हिस्सों में जमकर बारिश हो सकती है। उत्तरी क्षेत्र में भारी बारिश का अलर्ट भी जारी किया गया है। इस दौरान वातावरण में नमी की मात्रा ज्यादा बनी रहेगी।

    कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ. मदन लाल खिचड़ ने बताया कि बंगाल की खाड़ी की तरफ से मानसूनी हवाएं आगे बढऩे से हरियाणा में 29 जून रात्रि से बारिश की गतिविधियां शुरू हुई थीं।

    बीते 29 जून की रात्रि से हरियाणा में मानसूनी गतिविधियां शुरू हुई थी। 30 जून व 1 जुलाई को राज्य के उत्तरी व दक्षिण क्षेत्रों के ज्यादातर इलाकों में तथा पश्चिमी क्षेत्र के कुछेक स्थानों पर हल्की जबकि अनेक स्थानों पर जमकर बारिश हुई।

    रोहतक में हुई सबसे ज्यादा बारिश

    इस दौरान रोहतक जिले में सबसे ज्यादा 188 मिलीलीटर बारिश दर्ज की गई। जिसकी वजह से पूरा शहर पानी से लबालब भर गया था। हालांकि बारिश के बाद से तापमान में गिरावट हुई, लोगों को भीषण गर्मी से काफी हद तक राहत मिली।

    लेकिन हिसार में अभी तक मानसून की बेरुखी बनी हुई है। मानसून के दौरान अभी तक यहां मात्र एक मिलीमीटर बारिश हुई है। हल्की बूंदाबांदी से राहत जरूर मिली थी। हिसार के अलावा बालसमंद में 18 मिलीमीटर बारिश हो चुकी है।

    IMD के आंकड़ों के अनुसार 12 घंटों के दौरान कई जगहों पर हल्की से मध्यम बारिश हुई। रोहतक में जहां पहले मूसलाधार बारिश हुई, वहीं अब 8 मिलीमीटर बारिश और हो चुकी है। सबसे ज्यादा नारनौल एरिया में 43 मिलीमीटर बारिश हुई। इसके अलावा पंचकूला, कौल, अम्बाला, गुरुग्राम, भिवानी, सिरसा, फरीदाबाद, बावल, महेन्द्रगढ़, कुरुक्षेत्र, नूहं में बारिश हुई।

    तापमान में आई गिरावट

    प्रदेश में अधिकतम तापमान 32 से 38, जबकि न्यूनतम तापमान 24 से 28 डिग्री सैल्सियस के बीच रहा। बालसमंद का रात्रि पारा 24.9 डिग्री सैल्सियस प्रदेश में सबसे कम रहा। मौसम विभाग का कहना है कि प्रदेश में अधिकतम तापमान में कोई खास बदलाव की संभावना नहीं है।

    तेज बारिश का अलर्ट जारी

    बता दें कि मानसून की टर्फ बीकानेर, अलवर, हरदोई, डाल्टनगंज, शांतिनिकेतन और वहां से पूर्व की ओर बंगाल की खाड़ी के पूर्वोत्तर से गुजरती है, जो समुद्र तल से 0.9 किलोमीटर तक फैली हुई है। पूर्वी राजस्थान और आस-पड़ोस के ऊपर चक्रवाती परिसंचरण अब राजस्थान के मध्य भागों और आसपड़ोस में समुद्र तल से 1.5 किलोमीटर और 5.8 किलोमीटर के बीच स्थित है। 6 जुलाई को उत्तर हरियाणा में पंचकूला, अम्बाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, कैथल, करनाल में भारी बारिश को लेकर अलर्ट जारी किया गया है।

    Latest Posts

    Don't Miss

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.