21.1 C
Delhi
Monday, December 5, 2022
More

    Latest Posts

    लाख राशन दे या बनवा दे मकान मुस्लिम मतदाता ने साबित किया कि वें हमेशा भाजपा विरोधी रहेंगे

    उप्र चुनाव में विशेषकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आंकड़ों पर नजर डाली आये तो मुस्लिम बाहुल्य ७१ सीटों में से ६७ सीटों पर भाजपा हारी है। उन ६७ सीटों की बात भी ना की जाये और सिर्फ मुजफ्फरनगर व शामली की सीटों पर नजर दौड़ाई जाये, तो स्वयं गृहमंत्री के जमीन पर उतरकर प्रचार करने के बावजूद भी मुस्लिमों के भाजपा हराओ अभियान के अन्तर्गत जेल में जाने के बावजूद भी कैराना के मुस्लिमों ने नाहिद हसन को जिता दिया।

    सुरेश राणा व संगीत सोम

    पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ही अन्य सीटों पर जहां-जहां मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र थे, वहां-वहां भाजपा पूरी तरह हारी है। थानाभवन की बात करें तो यहां प्रदेश में स्वयं गन्नामंत्री रहे सुरेश राणा को अशरफ अली खान ने जोरदार पटखनी दी है। शुरू से लेकर अंतिम चक्र तक एक बार भी सुरेश राणा अशरफ अली से आगे नहीं निकल हो पाये।

    मेरठ की सरधना सीट पर संगीत सोम को हराकर सपा के अतुल प्रधान की हुई जीत।

    वहीं मुजफ्फरनगर से ही सटे मेरठ में रफीक अंसारी एवं मौहम्मद आदिल ने गठबन्धन से चुनाव लड़कर जीत हासिल की है। सहारनपुर, बिजनौर, मुरादाबाद, नजीबाबाद आदि मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्रों में भी मुस्लिम प्रत्याशियों ने जोरदार जीत दर्ज करायी है।

    हर बार की तरह मुस्लिम मतदाताओं ने भी इस बार भी यह साबित कर दिया कि भाजपा चाहे त जितना भी सुशासन ला दे, जितना भी राशन बांट दे, जितने भी मकान की खड़े करा दे, मगर चुनाव के समय पर मुस्लिम मतदाता खुलकर भाजपा का विरोध करेगा और विरोध ही नहीं मतदान के रूप में भी उस पार्टी को मतदान करेगा, जिस पार्टी को भाजपा हरा रही हो।

    पिछले दस वर्षों में यही देखने को मिला है कि मुस्लिम मतदाता विधानसभा या लोक यदि बसपा का प्रत्याशी मजबूत हो और भाजपा के प्रत्याशी को हराने का दम रखता हो तो वहां मुस्लिम मतदाता बसपा को वोट था।

    जहां-जहां सपा का प्रत्याशी मजबूत हो वहां मुस्लिम मतदाता सपा को वोट देता रहा था। मगर इस बार उत्तर प्रदेश की तस्वीर कुछ और ही थी। शुरू में ही मायावती के सुस्ती से चुनाव लड़ने के कारण मुस्लिम मतदाता सपा को पूरी तरह चुनाव जिताने व भाजपा को करारी हार दिलाने के लिए तैयारी कर चुका था।

    मतदान के दिन तक भी अंधेरे में जी रहे भाजपाइयों को ऐसा लग रहा था कि इस बार सुशासन, विकास और राशन के दम पर शायद पहले से बड़ी मात्रा में मुस्लिम मतदाता उन्हें वोट करेगा, मगर चुनावी नतीजे आने के बाद यह साफ हो गया कि मुस्लिम मतदाता इस बार भी भाजपा के खिलाफ पुरजोर से खड़ा रहा।

    पूरे पश्चिमी उप्र में ही नहीं अपितु पूरे प्रदेश में मुस्लिम मतदाताओं ने कहीं भी भाजपा को जोरदार समर्थन नहीं किया। आने वाले चुनाव में सत्ताधारी भाजपा इस बार क्या सबक ले पाती है, यह तो कह पाना मुश्किल है मगर इस चुनाव ने यह तय कर दिया कि भाजपा जितना मर्जी ने निष्पक्ष होकर कार्य कर ले, मुस्लिम मतदाता उसे कतई वोट नहीं करेगा।

    Latest Posts

    Don't Miss

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.