31.1 C
Delhi
Sunday, September 19, 2021

खिलौने वाली बंदूक लेकर पति-पत्नी पहुंचे ज्वेलरी शॉप लूटने, जानिये फिर क्या हुआ

आज - कल का ज़माना बदल रहा है। बच्चों की बंदूक लेकर चोरी होने लगी है। आपने चोरी-डकैती के बहुत से किस्से...
More

    Latest Posts

    जब घर बुलाकर Jaya Bachchan ने Rekha से कही थी ऐसी बात,जिसके बाद टूट गया था अमिताभ और रेखा का रिश्ता

    ये इश्क की कहानी आज तक चर्चित है, और शायद आगे भी रहेगी।बतादें, बॉलीवुड की अधूरी प्रेम कहानी का जिक्र जब भी...

    देश में पहली बार : कर्नाटक का सरकारी स्कूल बनेगा सैटेलाइट डिजाइनिंग का हिस्सा,इसरो करेगा मदद

    जी हाँ, ये बात बिल्कुल सही है और इन बच्चों की मदद इसरो करेगा। बतादें, इसरो अब तक छात्रों के 6 सैटेलाइट...

    इस रहस्यमय कुंड में ताली बजाते ही ऊपर उठने लगता है पानी, बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी मानते हैं इसे ‘कुदरत का करिश्मा’

    सचमुच दुनिया बड़ी ही करिश्माई है। जिसे जान गए वो आविष्कार और जिसे नहीं पता कर पाए वो चमत्कार। दरअसल, दुनिया में...

    बाइक में हॉस्प‍िटल का पलंग फ‍िट कर बना दी एंबुलेंस, लोगों को दे रहे फ्री सर्विस

    वैसे देखा जाए तो अब कोरोना की दूसरी लहर दम तोड़ चुकी है, लेकिन मामले अभी भी सामने आ रहे हैं। तीसरी...

    चमड़े नहीं बल्कि कश्मीर के लोग पहनते थे ऐसा जूता, अब 110 साल का व्यक्ति फिर से वही करने में जुटा है

    हर राज्य हर लोक हर समाज हर जाति हर धर्म की अपनी ही अलग ही परंपरा होती है। इस परंपरा को ज़िंदा रखना ही लोगों के लिए बेहद ज़रूरी होता है, क्योंकि अक्सर पुराने लोग ही पुरानी बातों को याद कर आगे बढ़ते हैं, क्योंकि वो लोग हमेशा ही अपने पुराने दिनों को याद करना चाहते हैं और साकार भी।

    फलीभूत होने पर उनके जीवन की वो बड़ी उपलब्धि भी हो जाती है, और आज हम उसी के बारे में बताने जा रहे हैं। बतादें, कश्मीर के अब्दुल समद गनी सालों पुरानी पुल्हूर बनाने की कश्मीरी परंपरा को जिंदा रखने की कोशिश कर रहे हैं। पुरानी परंपरा के जूते लोग प्राचीन काल में पहनते थे।

    अब्दुल समद इन चप्पलों को अपने इस्तेमाल के लिए बना रहे हैं। वे भी चाहते हैं कि ये पुरानी कला जीवित रहे। अब्दुल समद गनी ने कहा, मेरा उद्देश्य इस कला को जीवित रखना है ताकि हमारी युवा पीढ़ी पुराने कश्मीर के जान सके।

    जानकारी के मुताबिक, कश्मीर के बांदीपोरा जिले के केहनुसा गांव का एक 110 साल का व्यक्ति धान के भूसे से चप्पल-जूते बनाने की कश्मीरी परंपरा को जीवित रखने की कोशिश कर रहा है।

    अब्दुल समद गनी जूते बनाते हैं जिन्हें कश्मीर में पुल्हूर कहा जाता है। जब कोई भी चमड़े और अन्य जूते नहीं पहनता था तो इन्हीं जूतों का इस्तेमाल होता था। उन्होंने कहा, इस तरह के जूते पर्यावरण के अनुकूल और स्किन के लिए सही हैं।

    पुराने वक्त में हर घर न केवल इनका उपयोग कर रहा था बल्कि कश्मीर में इन हल्के जूतों को खुद भी बना रहा था। और आज उसी परंपरा को ज़िंदा करने का प्रयास एक बुज़ुर्ग की तरफ से किया जा रहा है, ये बात अपने आप में भी बहुत ही दिलचस्प है, क्योंकि इस उम्र में लोग अपने बारे में ही सोचते हैं अपनी ही बात करते हैं

    ज़िंदगी को आराम के साथ जीने की कोशिश करते हैं, लेकिन ये बुज़ुर्ग हैं कि अपने आखिरी वक्त में भी शुरुआती दिनों की तरह ही जोशीले काम कर रहे हैं, सलाम इन्हें हमारा सलाम, और आपका, कमेंट कीजिए।

    Latest Posts

    जब घर बुलाकर Jaya Bachchan ने Rekha से कही थी ऐसी बात,जिसके बाद टूट गया था अमिताभ और रेखा का रिश्ता

    ये इश्क की कहानी आज तक चर्चित है, और शायद आगे भी रहेगी।बतादें, बॉलीवुड की अधूरी प्रेम कहानी का जिक्र जब भी...

    देश में पहली बार : कर्नाटक का सरकारी स्कूल बनेगा सैटेलाइट डिजाइनिंग का हिस्सा,इसरो करेगा मदद

    जी हाँ, ये बात बिल्कुल सही है और इन बच्चों की मदद इसरो करेगा। बतादें, इसरो अब तक छात्रों के 6 सैटेलाइट...

    इस रहस्यमय कुंड में ताली बजाते ही ऊपर उठने लगता है पानी, बड़े-बड़े वैज्ञानिक भी मानते हैं इसे ‘कुदरत का करिश्मा’

    सचमुच दुनिया बड़ी ही करिश्माई है। जिसे जान गए वो आविष्कार और जिसे नहीं पता कर पाए वो चमत्कार। दरअसल, दुनिया में...

    बाइक में हॉस्प‍िटल का पलंग फ‍िट कर बना दी एंबुलेंस, लोगों को दे रहे फ्री सर्विस

    वैसे देखा जाए तो अब कोरोना की दूसरी लहर दम तोड़ चुकी है, लेकिन मामले अभी भी सामने आ रहे हैं। तीसरी...

    Don't Miss

    IAS INTERVIEW में पूछा गया सवाल, आपके पसंदीदा अभिनेता कौन हैं? जवाब जानकार चकरा जाएंगे आप

    जिसको भी कड़ी मेहनत करने में कोई समस्या नहीं होती है वही इंसान सफल होता है। सिविल सेवा में चयनित होने के...

    फेरों से पहले दूल्हे की हरकत देख कर गांववालों को आया गुस्सा, मंडप पर ही कर दी जूतों से पिटाई

    समाज के तमाम बुद्धिजीवी वर्ग आज दहेज प्रथा को बढ़ावा दे रहे हैं। भारत के किसी भी वर्ग के परिवार में आपको...

    मोदी के मंत्री के काफ़िले को मंदिर में जाने से रोका,बहस होने पर दिया करारा जवाब, जानिए कौन है यह साहसी IPS अफसर….

    सबरीमाला मंदिर में जा रहे भाजपा के केंद्रीय मंत्री पी राधाकृष्णन की गाड़ी को भगवान अय्यप्पा परिसर के रास्ते में अंतिम प्रवेश...

    इस रैपर ने लाखों रुपये समंदर और टॉयलेट टॉयलेट में बहाए, लोगों ने बनाए अपनी गरीबी पर Memes

    किसी के पास इतना कुछ होता है कि वो चीजें उस इंसान के काम भी नहीं आती। आपने कई ऐसे लोगों के...

    बिना कुछ किए यह आदमी कमाता है 7000 रुपये, 3 हजार लोग इसे करना चाहते हैं हायर

    जापान की राजधानी टोक्यो में एक ऐसा शख्स रहता है, जो बिना कुछ काम किए पैसे कमाता है। इस शख्स का नाम...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.