34.1 C
Delhi
Monday, May 16, 2022

लाख राशन दे या बनवा दे मकान मुस्लिम मतदाता ने साबित किया कि वें हमेशा भाजपा विरोधी रहेंगे

उप्र चुनाव में विशेषकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आंकड़ों पर नजर डाली आये तो मुस्लिम बाहुल्य ७१ सीटों में से ६७...
More

    Latest Posts

    हरियाणा-दिल्ली NCR से लद्दाख जाना अब होगा आसान, शुरू हुई स्पेशल बस सर्विस, जानें किराए से लेकर टाइमिंग तक सब कुछ

    गर्मी के दिनों में हर किसी का मन पहाड़ों पर जाने के लिए करता है। लेकिन कई बार जितनी खूबसूरत मंजिल...

    तीसरा बच्चा पैदा करने पर 11 लाख का बोनस और साल भर की छुट्टी, पढ़ें क्या है यह नई पॉलिसी

    एक ओर जहां भारत में बढ़ती हुई जनसंख्या (Population Explosion) एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है, वहीं पड़ोसी देश चीन में बुजुर्गों की...

    इस योजना के तहत प्रदेश की बेटियों को सरकार देगी 25000 रुपए, ऐसे उठाएं लाभ

    बेटियों की शिक्षा के लिए केंद्र सरकार और राज्य की सरकारें कई तरह की योजनाएं लाती रहती हैं। ऐसी ही राज्य सरकार...

    10वीं पास, ग्रेजुएट युवाओं के लिए बिजली विभाग में निकली भर्तियां, ऐसे करें अप्लाई

    तेलंगाना स्टेट साउदर्न पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (TSSPDCL) में जूनियर लाइनमैन, जूनियर इंजीनियर और सब इंजीनियर पदों पर नौकरियां हैं। इन पदों...

    प्रधान हो तो ऐसा : पिता के प्रधानी चुनाव जीतने पर बेटे ने गांव के विकास के लिए दिए 1 करोड़ रुपये

    बात तो सही है, लेकिन इसे सही बनाने के लिए अपने आप को खपाना पड़ता है। और ये काम सुरेंद्र लाल ने कर दिखाया है। अक्सर लोग बेटे को बाप के नाम से कहकर पुकारते हैं, जानते हैं, लेकिन यहां इसके बिल्कुल उलट है, यहाँ एक बाप को उसके बेटे के अच्छे काम के कारण जानते हैं।

    और इस बेटे की अच्छाई ने ही पिता को प्रधानी का चुनाव जितवा दिया, वो कैसे, चलिए आपको बताते हैं। देवरिया जिले के एक गांव में पिता के ग्राम प्रधान निर्वाचित होने पर बेटे ने गांव के विकास के लिए अपने पास से एक करोड़ रुपया दिया है।

    मामला पथरदेवा ब्लॉक के मेदीपट्टी गांव का है। जहां गिरजा श्रीवास्तव के प्रधान चुने जाने पर उनके बेटे सुरेंद्र लाल श्रीवास्तव ने गांव में नाली, सड़क आदि के निर्माण के लिए यह राशि दी है। सुरेंद्र लाल श्रीवास्तव उत्तराखंड में अपना व्यवसाय करते हैं और कमजोर लोगों की मदद में जुटे रहते हैं।

    पिछले लाकडाउन में भी सुरेंद्र लाल ने जरूरतमंद लोगों की भरपूर मदद की थी, जिसको देखकर मेदी पट्टी गांव के लोगों ने इनके पिता गिरजा श्रीवास्तव को निर्विरोध प्रधान बनाने पर विचार किया। 

    पहले तो सुरेंद्र इसके लिए तैयार नहीं हुए, लेकिन ग्रामीणों के दबाव पर उन्होंने यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया। चुनाव शुरू होने से पहले गांव के पूर्व प्रधान समेत दो अन्य लोगों ने भी गिरिजा श्रीवास्तव के खिलाफ प्रधानी का पर्चा दाखिल कर दिया।

    लेकिन गांव के लोगों ने इनकी सेवा भावना को ध्यान में रखते हुए एक तरफा इनके पक्ष में मतदान कर शानदार जीत दिलाई। सुरेंद्र लाल श्रीवास्तव ने अपने ग्राम सभा में आने वाले तीनों मोहल्लों में नाली, आरसीसी, सड़क और सोख्ता निर्माण के लिए एक करोड़ रुपये की धनराशि अपने पास से देने का ऐलान किया है। 

    इसके बाद से तो ग्रामीण और ख़ुश हो गए हैं। ग्रामीणों का मानना है कि उनका चुनाव प्रधान के रूप में बिल्कुल सही था। क्योंकि सुरेंद्र के पिता को चुनाव जिताकर ग्रामीण गदगद हैं, और अब आगे और भी ज़्यादा प्रसन्न करने का काम ख़ुद जीते हुए प्रधान के बेटे ने भी कर दिया है।

    अगर ऐसे लोग राजनीति में आएंगे तो यकीन मानिए, एक दिन ऐसा भी आ सकता है कि इस देश मे राजनीति के साथ-साथ राजनेताओं की भी पूरी ईमानदारी, पूरी निष्ठा से जयजयकार होगी।

    Latest Posts

    हरियाणा-दिल्ली NCR से लद्दाख जाना अब होगा आसान, शुरू हुई स्पेशल बस सर्विस, जानें किराए से लेकर टाइमिंग तक सब कुछ

    गर्मी के दिनों में हर किसी का मन पहाड़ों पर जाने के लिए करता है। लेकिन कई बार जितनी खूबसूरत मंजिल...

    तीसरा बच्चा पैदा करने पर 11 लाख का बोनस और साल भर की छुट्टी, पढ़ें क्या है यह नई पॉलिसी

    एक ओर जहां भारत में बढ़ती हुई जनसंख्या (Population Explosion) एक बहुत बड़ी समस्या बन चुकी है, वहीं पड़ोसी देश चीन में बुजुर्गों की...

    इस योजना के तहत प्रदेश की बेटियों को सरकार देगी 25000 रुपए, ऐसे उठाएं लाभ

    बेटियों की शिक्षा के लिए केंद्र सरकार और राज्य की सरकारें कई तरह की योजनाएं लाती रहती हैं। ऐसी ही राज्य सरकार...

    10वीं पास, ग्रेजुएट युवाओं के लिए बिजली विभाग में निकली भर्तियां, ऐसे करें अप्लाई

    तेलंगाना स्टेट साउदर्न पावर डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (TSSPDCL) में जूनियर लाइनमैन, जूनियर इंजीनियर और सब इंजीनियर पदों पर नौकरियां हैं। इन पदों...

    Don't Miss

    26 साल बाद झील से बाहर आया इटली का गांव, इस कारण दफनाया था पानी में

    इटली का एक गांव करीब 26 साल बाद झील से बाहर निकल आया है। अब इटली की सरकार उम्मीद जता रही है...

    तिरुपति बालाजी से जुड़े अद्भुत तथ्य ,जो कर देंगे आश्चर्यचकित

    भारत के सबसे चमत्‍कारिक और रहस्‍यमयी मंदिरों में से एक है भगवान तिरुपति बालाजी। भगवान तिरुपति के दरबार में गरीब और अमीर...

    पति ने पुलिस से लगाई गुहार- साहब बीवी मारती है, मैं घर नहीं जाउंगा…

    गृहस्थ जीवन ऐसा है कि पति और पत्नी दोनों को ही संभाल कर चलना पड़ता है। हर किसी के घर में पति-पत्नी...

    कई बार फेल होने पर भी इन्होनें नहीं मानी हार, इस रणनीति से बनें आईएएस अफसर

    इंसान के अंदर कुछ कर गुजरने का जज्बा हो, तो सफल होने से उसे कोई रोक नहीं सकता है। आज जिनके बारे...

    महामारी को हराकर भी बूढ़ी माँ हुई लाचार, अस्पताल से लौटी तो बेटे ने किया घर से बाहर

    पूरी दुनिया महामारी का कहर जारी है। ऐसे में कई लोग कोरोना संक्रमित होकर ठीक हो चुके है तो कुछ लोगों की...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.