28.1 C
Delhi
Monday, June 14, 2021

क्या आप जानते हैं महाशिवरात्रि का गृहस्थ और साधकों के लिए पूजा का अलग अलग मुहूर्त और शुभ योग

महाशिवरात्रि 2021 साल का वह पावन दिन है जिस दिन भक्त महादेव और शक्ति स्वरूपा माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए...
More

    Latest Posts

    दूल्हे के राज़ पता चलते ही दुल्हन ने किया शादी से इनकार, कहा मरना मंज़ूर है पर शादी नहीं

    आए दिन आप शादी को लेकर हंगामा सुनते होंगे जहां किसी न किसी वजह से शादी टूट जाती है।  शादी एक पवित्र...

    चाय बेचने वाले ने शुरू की एलो वेरा की खेती, अब अपने बिज़नेस से कमा रहा है लाखों

    अगर आपके पास नौकरी नहीं है और आप घर बैठे कारोबार करने की सोच रहे हैं तो आप एलोवेरा की खेती करके...

    कई दिनों से व्यक्ति के कान में हो रही थी सुरसुराहट डॉक्टर ने डाला कैमरा तो निकला यह रहस्य

    कीड़े बहुत छोटे और बड़े भी होते हैं छोटे कीड़े कहीं पर भी घुस सकते हैं यह हमारे मुंह नाक और कान...

    यरुशलम का क्या है महत्व, जानिए इजरायल और फिलिस्तीन में किस लिए छिड़ी है जंग

    यरूशलम का मुद्दा इजरायल और फलस्तीनी अरबों के बीच के पुराने विवाद में एक अहम मुद्दा रहा है। बीबीसी की एरिका चेर्नोफ्स्काई...

    भारत का यह अनोखा गाँव जहाँ पैदा होते है सिर्फ जज और मंत्री, यहाँ पढ़े पूरी जानकारी

    आपने आज से पहले कई गांव के बारे में सुना होगा जो अपने आप में बिल्कुल अलग और खास होता है। जैसा कि आप सब जानते है कि आज भी ऐसा गांव है जहां शिक्षा का क्षेत्र बहुत ही कम है। जहां बच्चों को अच्छी शिक्षा प्राप्त नहीं हो पाती है। आज हम आपको एक ऐसे ही अनोखे गांव के बारे में बताने जा रहे है जिसकी विशेषताएं सुनकर हैरान रह जाएंगे।

    दरअसल इस गांव में शिक्षा लेवल काफी ऊंचा है। कहा जाता है कि यहां का बच्चा पैदा होते ही जज या फिर मंत्री बनता है। ये है रेवाड़ी जिले का गांव बूढ़पुर। ‘वह नामी गांव बूढ़पुर कहिए, जहां जज और मिनिस्टर रहते हैं’। ये कहावत छह दशक से अहीरवाल में चली आ रही है।

    इस कहावत से बूढ़पुर गांव की प्रसिद्धि साफ झलकती है। दरअसल संयुक्त पंजाब में अहीरवाल के प्रथम विधायक राव मोहर सिंह एवं उनके भाई न्यायाधीश श्योप्रसाद इसी गांव से रहे हैं।

    उसके बाद से यह कहावत आज तक लोगों की जुबान पर है। जिला मुख्यालय से करीब पांच किलोमीटर दूर स्थित बेरली की ओर जाने वाले इस बूढ़पुर गांव की आबादी करीब छह हजार है। गांव में करीब 1700 वोटर हैं।

    बूढ़पुर गांव का हर व्यक्ति पढ़ा लिखा है। यही वजह है कि इस गाँव कि गिनती शिक्षित गाँवों में होती है। इस गांव में एक सीनियर सेकेंडरी स्कूल साल 1968 से चल रहा है जिसमें दूर-दूर से लोग पढ़ने आते हैं।

    गांव की सबसे बड़ी खास बात ये है कि यहां बेटियों की शिक्षा पर भी काफी जोर दिया जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि पुरुषों के अलावा इस गांव की लड़कियां और बहुएं भी विभिन्न क्षेत्रों में नौकरी करती हैं।

    चार विधायक के अलावा इस गांव से ब्रह्मानंद मध्यप्रदेश में आईजी व नरपाल यादव सेना में कर्नल हैं। इस गांव के सरपंच हुक्मचंद हैं। यहां पर प्रशासन ने कई एजुकेशन की नीतिया लागू की है। इस गांव के बारे में लोगों का कहना है कि इसको भगवान का ही कोई आशिर्वाद मिला है।

    Latest Posts

    दूल्हे के राज़ पता चलते ही दुल्हन ने किया शादी से इनकार, कहा मरना मंज़ूर है पर शादी नहीं

    आए दिन आप शादी को लेकर हंगामा सुनते होंगे जहां किसी न किसी वजह से शादी टूट जाती है।  शादी एक पवित्र...

    चाय बेचने वाले ने शुरू की एलो वेरा की खेती, अब अपने बिज़नेस से कमा रहा है लाखों

    अगर आपके पास नौकरी नहीं है और आप घर बैठे कारोबार करने की सोच रहे हैं तो आप एलोवेरा की खेती करके...

    कई दिनों से व्यक्ति के कान में हो रही थी सुरसुराहट डॉक्टर ने डाला कैमरा तो निकला यह रहस्य

    कीड़े बहुत छोटे और बड़े भी होते हैं छोटे कीड़े कहीं पर भी घुस सकते हैं यह हमारे मुंह नाक और कान...

    यरुशलम का क्या है महत्व, जानिए इजरायल और फिलिस्तीन में किस लिए छिड़ी है जंग

    यरूशलम का मुद्दा इजरायल और फलस्तीनी अरबों के बीच के पुराने विवाद में एक अहम मुद्दा रहा है। बीबीसी की एरिका चेर्नोफ्स्काई...

    Don't Miss

    बूढ़ी माँ थाने आकर खाती है आइस क्रीम और आशीर्वाद देकर चली जाती है वापस

    सुनने में बड़ा अजीब सा लगता है। शायद इन्हीं को रिश्ते कहते हैं। कहते हैं ना कि रिश्ते की कोई परिभाषा नहीं...

    Hindi Jokes: लड़की की आंख का ऑपरेशन चल रहा था, लड़की-डॉक्टर प्लीज़ मेरे बॉयफ्रेंड को अंदर बुला लीजिये

    हँसना मुस्कुराना हर इन्सान के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है और जब हम दो मिनट के लिए भी खुलकर ...

    इस जेल में रहने के लिए आपको देने होंगे 500 रुपये, खाने में मिलता है दही और रसम

    जेल की कैद एक सजा है। जेल में रहना एक कठिन काम है, जिसके लिए भी यहां रखने की सजा दी जाती...

    जब बीवी पर इस तरह की पाबंदियां लगाते थे शाहरुख खान, गौरी ने कर लिया था अलग होने का फैसला

    बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान यूं तो लोगों के दिलों में आज भी राज करते हैं। आप सभी को पता होगा कि...

    लड़की के आत्महत्या का कारण बने फैशनेबल कपड़े

    अक्सर देखा जाता है कि समाज की वजह से बहुत से लोग करना कुछ और चाहते है लेकिन कर नहीं पाते। दरअसल...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.