28.1 C
Delhi
Saturday, June 19, 2021

क्या आप जानते हैं महाशिवरात्रि का गृहस्थ और साधकों के लिए पूजा का अलग अलग मुहूर्त और शुभ योग

महाशिवरात्रि 2021 साल का वह पावन दिन है जिस दिन भक्त महादेव और शक्ति स्वरूपा माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए...
More

    Latest Posts

    20 साल में 40 बार मिला ट्रांसफर, फिर भी नही मानी इस दबंग महिला अफसर ने हार

    जी हां दोस्तों, डी रूपा, एक ऐसा नाम, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। डी रूपा ने जब...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    कुदरत के फरिश्ते: चेन्नई की 12 ट्रांसवुमेन जो गरीबो को खिलाते है भरपेट खाना

    जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने। जो आप पढ़ रहे हैं ये ही सच्चाई है। जिन लोगों को आम इंसान भी...

    प्रेमिका की शादी में प्रेमी पहुँचा कुल्हाड़ी लेकर, और जयमाला के समय कर दिया ऐसा काम

    एकतरफा प्यार एक-दूसरे को किसी भी स्टेज तक लेकर जा सकता है। जो लोग एकतरफा प्यार करते हैं, वो लोग हमेशा खतरे...

    सिविल इंजीनियर से बने “लखनऊ कबाड़ीवाला”, आज कमाते है 70 हज़ार रुपया महीना

    लॉकडाउन की वजह से हज़ारों युवाओं की नौकरियां छीन गई। इसके चलते वह खुद ही अपने पैरों पर खड़ा होकर कुछ करने की सोचने लगे। इनमें से एक कहानी है, लखनऊ के मड़ियाव थाना क्षेत्र के दाउदनगर में रहने वाले ओमप्रकाश वाराणसी में सिविल इंजीनियर की नौकरी करते थे। ओम प्रकाश हमेशा से कहते थे कि वह अपना कोई काम शुरू करना चाहते है और एक आईडिया पर वह काफी समय से काम भी कर रहे थे।

    लेकिन किसी न किसी वजह से, वह नौकरी छोड़कर काम शुरू करने की हिम्मत नहीं जुटा पाते थे। ओम प्रकाश प्रजापति ने सिविल इंजीनियरिंग में डिप्लोमा किया है। डिप्लोमा पूरा होने के बाद, कुछ समय तक लखनऊ में ही

    एक कंपनी में काम किया और फिर बनारस में एक कंपनी ज्वॉइन कर ली। अपना स्टार्टअप शुरू करने से वह पहले बनारस में ही काम कर रहा था। जहाँ पर उन्हर 30 हजार रुपये/माह तन्खाह मिला करती थी।

    वे कहते हैं कि साइट पर काम करने के दौरान मुझे स्क्रैप मैनेजमेंट का काम करना पड़ता था। ऐसे में जो स्क्रैप खरीदने आते थे, वे लोग उल्टे-सीधे दाम पर स्क्रैप ले जाते थे। यह बात मेरे दिमाग में बैठ गई।

    मुझे लगा कि इस सेक्टर में अपना बिजनेस किया जा सकता है। इसके बाद 2019 में मैंने ट्रायल बेसिस पर lucknowkabadiwala.com नाम से एक वेबसाइट बनवा ली। हालांकि इस पर काम नहीं शुरू किया।

    वहीं ओमप्रकाश बताते हैं कि 2020 में जब कोरोना के केस बढ़ने लगे, तब मैं छुट्टी लेकर घर आ गया। उसके कुछ दिनों बाद ही लॉकडाउन लग गया। ये खाली वक्त मेरे लिए टर्निंग पॉइंट साबित हुआ।

    इससे मुझे सोचने-समझने का मौका मिल गया। अपने आइडिया को लेकर परिवार के लोगों से बात की। सबकी एकमत राय थी कि शुरुआत करो। फिर मैंने जून 2020 से काम करना शुरू कर दिया। तब मेरे साथ दो लोग काम करते थे। बाद में जब काम आगे बढ़ा तो मैंने इनकी संख्या बढ़ाई। आज मेरे साथ पांच लोगों की टीम काम करती है।

    Latest Posts

    20 साल में 40 बार मिला ट्रांसफर, फिर भी नही मानी इस दबंग महिला अफसर ने हार

    जी हां दोस्तों, डी रूपा, एक ऐसा नाम, जिसके बारे में आज हम आपको बताने जा रहे हैं। डी रूपा ने जब...

    सभी रिश्तों पर रखे गए है इन रेलवे स्टेशन के नाम, पर माँ के नाम पर कोई स्टेशन नहीं

    दोस्तों रिश्ते बहुत अहमियत रखते हैं हर किसी के जीवन में। जीवन है तो रिश्ते हैं, जीवन नहीं तो रिश्ते नहीं। रिश्ते...

    कुदरत के फरिश्ते: चेन्नई की 12 ट्रांसवुमेन जो गरीबो को खिलाते है भरपेट खाना

    जी हां दोस्तों बिल्कुल सही सुना आपने। जो आप पढ़ रहे हैं ये ही सच्चाई है। जिन लोगों को आम इंसान भी...

    प्रेमिका की शादी में प्रेमी पहुँचा कुल्हाड़ी लेकर, और जयमाला के समय कर दिया ऐसा काम

    एकतरफा प्यार एक-दूसरे को किसी भी स्टेज तक लेकर जा सकता है। जो लोग एकतरफा प्यार करते हैं, वो लोग हमेशा खतरे...

    Don't Miss

    GAY के लिए नर्क है इन 5 देशों में जन्म लेना, पता चलने पर फांसी लगा देती है सरकार…

    दुनिया के कुछ देशों में समलैंगिक संबंध अभी भी अपराध की श्रेणी में हैं। इनमें से 45 देशों में महिलाओं के बीच...

    चालान से बचने के लिए बनाया बीवी के पेटीकोट को मास्क, मंज़र देख पुलिस भी हंसने लगी

    महामारी से बचने के लिए सरकारी दिशा निर्देश में सबसे आवश्यक मास्क को बताया गया है, बावजूद कुछ लोग इसकी गंभीरता का...

    कभी भी आग की लहरों में डूब सकता है यह द्वीप, हर रात जान हथेली में रखकर सोते हैं 170 लोग

    एक ऐसा खूबसूरत द्वीप जहां लोगों की जाने की चाहत होती है। लेकिन इस द्वीप की सच्चाई जानने के बाद आप भी...

    बिना केमिकल 12 वर्षों से छत पर उगा रहें सब्जियाँ, होता है इतना मुनाफा

    महंगाई दिन प्रतिदिन बढ़ती रहती है। खासकरके सब्जियां अगर महंगी हो जाए तो लोगों की परेशानी बढ़ जाती है। महेंद्र साचन पर...

    जब लॉकडाउन कराने के लिए खुद एक बाघ बैठा सड़क पर, तो क्या हुई लोगो की हालत देखे वायरल तस्वीर

    जब आप कही भी लॉन्ग ड्राइव पर जा रहे हो और सामने से बाघ आ जाए तो आपकी क्या हालत होगी। जाहिर...

    Stay in touch

    To be updated with all the latest news, offers and special announcements.